Sawan Shivaratri 2018 Dates~सावन शिवरात्रि
This year's Sawan Shivaratri 2018 Dates~सावन शिवरात्रि

Friday, 10 Aug - 2018

Sawan Shivratri~सावन शिवरात्रि in year 2018 will be celebrated on Monday, 10th August 2018.

Shivaratri
which falls during Shravana month is known as Sawan Shivaratri. Sawan Shivaratri likewise spelled as Shravana Shivratri. As whole Shravana month is dedicated Lord Shiva, Har Har Bholenathduring Sawan month is considered highly Bright. However, this shivratri is different from the most significant Shivaratri which is known as Maha Shivaratri. Maha Shivaratri falls during February or March which corresponds to Phalguna month.

About Sawan Shivaratri :

Sawan Shivaratri is more popular in North Indian states - Uttarakhand, Rajasthan, Uttar Pradesh, Madhya Pradesh, Punjab, Himachal Pradesh and Bihar where Purnimant Lunar Calendar is followed. In Andhra Pradesh, Goa, Maharashtra, Karnataka, Gujarat and Tamil Nadu where Amavasyant Lunar Calendar is followed Sawan Shivaratri corresponds to Ashadha Shivaratri. Famous Shiva temples in North India, Kashi Vishwanath and Badrinath Dham arrange Special Pujas and Shiva Darshan during Sawan month. Thousands of Shiva devotees visit Shiva shrines during Sawan month and perform Gangajal Abhishekam.

Methods to Perform Fast

– One day before Shivaratri Vrat, most likely on Trayodashi, devotees should eat only one time. On Shivaratri day, after finishing morning rituals devotees should take Sankalp (संकल्प) to observer full day fast on Shivaratri and to take food on next day after completion of fast. During Sankalp devotees seek blessing of Lord Shiva to complete the fast without any interference.

On Shivaratri day devotees should take second bath in the evening before doing Shiva Puja or visiting temple. Shiva Puja should be done during night and devotees should complete the fast next day after taking bath. Devotees should complete the fast between sunrise and before the end of Chaturdashi Tithi to get maximum benefit of the Vrat. According to one contradictory opinion devotees should completed the fast only when Chaturdashi Tithi gets over. But it is believed that both Shiva Puja and completed the fast should be done within Chaturdashi Tithi.   


श्रावण मास में आने वाली शिवरात्रि को सावन शिवरात्रि के नाम से जाना जाता है। सावन शिवरात्रि को श्रावण शिवरात्रि के नाम से भी जाना जाता है। जैसे कि पूरा श्रावण मास भगवान शिव को समर्पित है, सावन महीने के दौरान आने वाली मास शिवरात्रि को बहुत ही शुभ माना जाता है। हालांकि, यह शिवरात्रि सबसे महत्वपूर्ण शिवरात्रि से अलग है जिसको महा शिवरात्रि के नाम से जाना जाता है। महाशिवरात्री फाल्गुन मास (फरवरी या मार्च) के मध्य आती है।
सावन शिवरात्रि  : भारत के उत्तरी राज्यों उत्तराखंड, राजस्थान, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, पंजाब, हिमाचल प्रदेश और बिहार में जहाँ पूर्णिमांत चंद्र कैलेंडर का प्रयोग किया जाता है सावन शिवरात्रि अधिक लोकप्रिय है। आंध्र प्रदेश, गोवा, महाराष्ट्र, कर्नाटक, गुजरात और तमिलनाडु राज्यों में जहां अमावस्यांत चंद्र कैलेंडर का प्रयोग होता है, सावन शिवरात्रि को आषाढ़ शिवरात्रि नाम से जाना जाता हैं। उत्तर भारत में प्रसिद्ध शिव मंदिर, काशी विश्वनाथ और बद्रीनाथ धाम सावन महीने के समय विशेष पूजा और शिव दर्शन की व्यवस्था करते हैं। सावन महीने के दौरान लाखो शिव भक्त शिव दर्शन हेतु मंदिरों की यात्रा करते हैं और शिवलिंग का गंगाजल अभिषेक करते हैं।

सावन शिवरात्रि व्रत विधि :- शिवरात्रि व्रत से एक दिन पहले, त्रयोदाशी के दिन भक्तों को केवल एक बार खाना चाहिए। शिवरात्रि दिवस पर, सुबह अनुष्ठानों को पूरा करने के बाद भक्तों को शिवरात्रि पर पूर्ण दिन उपवास करने के लिए संकल्प लेना चाहिए और अगले दिन व्रत पूर्ण करके भोजन प्रसाद लेना चाहिए। संकल्प के दौरान बिना किसी हस्तक्षेप के उपवास पूर्ण करने तक भगवान शिव का पूजन वंदन प्रार्थना करते हुए आशीर्वाद मांगते हैं।

शिवरात्रि  व्रत पर भक्तों को शिव पूजन करने या मंदिर जाने से पहले शाम को दूसरा स्नान करना चाहिए। शिव पूजा रात के समय भी की जानी चाहिए और भक्तों को अगले दिन स्नान करने के बाद उपवास खोलना चाहिए। भक्तों को व्रत का अधिकतम लाभ प्राप्त करने के लिए सूर्योदय के बीच और चतुर्दशी तिथि के अंत से पहले खोलना चाहिए। एक भिन्न विधि के अनुसार भक्तों को व्रत केवल तभी खोलना चाहिए जब चतुर्दशी तिथि समाप्त हो जाए। लेकिन ऐसा माना जाता है कि शिव पूजा और उपवास खोलना चतुर्दशी तिथि से पूर्व किया जाना चाहिए।
 

 
 
 
Quick Links
Copyright © The Lord Shiva. All Rights Reserved.